BiographyLife Style

विराट कोहली की जीवन कहानी | Virat Kohli Biography In Hindi

Virat Kohli Biography In Hindi – दोस्तो इस लेख में हम भारतीय टीम के महान क्रिकेटर विराट कोहली की जीवन कहानी क्या है के बारे में जानेंगे। तो आइये फ्रेंड्स जानते हैं Virat Kohli की जीवनी कैसी है।

Virat Kohli Biography In Hindi

विराट कोहली ने जब से भारतीय क्रिकेट टीम में खेलना शुरू किया है तब से वह हर मैच मे लगभग कोई ना कोई रिकॉर्ड बना देते हैं. आज के समय में विराट कोहली एक क्रिकेटर ही नहीं बल्कि बहुत से युवाओं के लिए यह नाम एक मोटिवेशन है जो की अपने आप में एक बहुत ही बड़ा ब्रांड है।

अगर बात क्रिकेट ग्राउण्ड में फील्डिंग या बैटिंग की करे तो शायद ही ऐसा कोई खिलाड़ी हो जो Virat Kohli से तेज और फुर्तीले हों. विराट के जैसा फुर्तीला खिलाड़ी आज के समय में बहुत ही कम खिलाडी देखने को मिलते हैं Virat Kohli जिस स्मूथनिस और अटैकिंग स्टाइल में बल्लेबाजी करते हैं तो उन्हें देखकर ऐसा लगने लगता है की बैटिंग करना बहोत ही आसान एवं सरल है।

विराट कोहली आज के दौर में वह नाम बन चुका है जिसे शायद ही कोई क्रिकेट फैन्स भुला सके विराट कोहली दुनिया के सबसे सफल खिलाड़ियों में से एक है जो अपनी बल्लेबाजी की स्किल से सभी को प्रभावित करते हैं। दोस्तों विराट कोहली की सफलता के बारे में तो सब कोई जानता है लेकिन यह किसी को पता नहीं है की उन्हें इस मुकाम पर पहुंचने के लिए कितनी मेहनत मशक्कत करनी पड़ी।

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी का आज की इस पोस्ट में जिसमे हम Indian Cricket Team के Captain Virat Kohli Biography के बारे में बात करेंगे। तो आप इस लेख को लास्ट तक पूरा जरूर पढ़े ताकि आपको विराट कोहली की जीवन कहानी के बारे में पता चल सके।

Virat Kohli का जन्म कब और कहाँ हुआ था

विराट का जन्म 5 नबम्बर 1988 को दिल्ली में एक पंजाबी मिडिल क्लास फैमली में हुआ था और इनके पिता जी का नाम “श्री प्रेम कोहली” था जो की एक सरकारी लॉयर यानी की बकील थे।

और उनकी माता जी का नाम “श्री मति सरोज कोहली” है जो हॉउस बाइफ हैं उस टाइम कोहली के परिवार में सिर्फ पांच सदस्य थे जिनके पेरेंट्स के अलावा उनकी एक बड़ी बहिन एवं एक बड़े भाई भी थे। Virat Kohli Biography

इन्हे भी पढिये –

महेन्द्र सिंह धोनी के जीवन परिचय के बारे में जानिए

दिनेश कार्तिक के जीवन परिचय के बारे में जानिये 

विराट कोहली और महेन्द्र सिंह धोनी की तरह एक सफल क्रिकेट कैसे बने? जानिये 

क्रिकेट अम्पायर कैसे बने? जानिये क्रिकेट अम्पायर बनने के बारे में पूरी जानकारी

Virat Kohli के क्रिकेट करियर का सफर

विराट कोहली का जन्म भी नहीं हुआ था तब से उनके परिवार में क्रिकेट देखा और खेला जाता था खासकर उनके पिता जी को क्रिकेट देखने एवं खेलने का बहोत ज्यादा शोंक था और जब विराट थोड़े बड़े हुए तो उनके पापा ने उनको Cricket खेलने की सलाह दी.

कोहली सिर्फ चार साल के ही थे तब से उन्होंने बल्ला पकड़ना शुरू कर दिया जैसे जैसे विराट बड़े होते गए वैसे वैसे उनका Cricket के प्रति लगाव बढ़ता गया कोहली के पिता उनके साथ अपने घर में ही क्रिकेट खेलते थे क्योंकी विराट चाहते थे की मेरे पापा मेरे साथ ज्यादा Cricket खेलें लेकिन पिता जी काम की वजह से उनके साथ ज्यादा समय तक क्रिकेट नहीं खेल सकते थे।

विराट जैसे ही थोड़े बड़े हुए तो उन्होंने अपने गांव के बच्चों के साथ ही गली क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया गली क्रिकेट खेलने वाले बच्चों में विराट के जैसा कोई खिलाडी नहीं था इसीलिए गांव के लोग बोलते थे की विराट बहुत ही टेलेंटिड खिलाडी है और उनका गली cricket में समय बर्बाद हो रहा है।

यही बात गांव के लोगों ने उनके पिता जी से भी कही की virat kohli एक टेलेंटिड खिलाड़ी है उनको प्रोफेशनल ट्रेनिंग की जरुरत है. तो उनके पिता ने इस काम को करने में बिल्कुल भी देरी नहीं की और उन्होंने विराट का एडमिशन दिल्ली क्रिकेट अकैडमी में करा दिया जब विराट ने दिल्ली क्रिकेट अकैडमी को जॉइन किया था तो उनकी उम्र सिर्फ 9 साल की थी। Virat Kohli Biography

अगर विराट की पढ़ाई की बात करें तो उन्होंने विशाल भारती पब्लिक स्कूलसे अपनी पढ़ाई की है लेकिन virat kohli को खेलों में बहुत ज्यादा रूचि थी जिसके बाबजूद भी वह एक अच्छे और संस्कारी स्टूडेंट रहे। दिल्ली क्रिकेट अकैडमी में उन्होंने कोच राजकुमार शर्मा से Traning ली Delhi Academy में खेलने के अलावा उन्होंने सुमित डोगान नाम कोच की Academy में भी खेले।

विराट के कोच बताते हैं की विराट को शांत रख पाना बहुत ही मुश्किल था क्योंकी कोहली में जो भी Atitiute था वो एक दम नैचुरल था कोच राजकुमार शर्मा यह भी बताते हैं की कोहली को जिस भी नंबर पर बैटिंग करने के लिए भेजते थे वह उस नंबर पर जाने के लिए हमेशा तैयार रहता था।

ट्रेनिंग खत्म होने के बाद सभी बच्चे थक हार के अपने अपने घर चले जाते थे लेकिन विराट का traning से कभी मन ही नहीं भरता था क्योंकी विराट खेलने कभी थकते ही नहीं थे और विराट कोहली को चैलेंज बहुत ज्यादा पसंद थे जब भी कोई उनसे चैलेंज की कहता था तो कोहली उसमें अपनी पूरी जी जान लगा देते थे और वो उस काम को पूरा करके बताते थे जो सभी उनके लिए नामुमकिन बताते थे।

दोस्तों इसी दौरान कोहली का लोकल टूर्नामेंट में सिलेक्शन हो गया था जिसमें उन्होंने बेहतरीन परफॉर्मेंस दी और उसी समय उन्हें बहुत से लोग जानने लगे. विराट की इस परफॉर्मेंस को देखते हुए अक्टूबर 2002 में दिल्ली की अंडर15 टीम में उन्हें शामिल कर लिया गया और दिल्ली की अंडर15 टीम में खेलते हुए उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया इसी बीच उनके अच्छे रिकॉर्ड को देखते हुए उन्हें दिल्ली की अंडर17 टीम में जगह मिल गई।

वर्ष 2004 में उन्होंने विजय मारचयन ट्राफी में दिल्ली के लिए सिर्फ चार मैचों में ही 450 रन बना दिए थे और फिर इस ट्राफी के बाद भी विराट कोहली की अच्छी परफॉर्मेंस जारी रही विराट जिस टीम में सिलेक्ट हो जाते थे तो कुछ ही मैचों के बाद कोहली उस टीम के प्रमुख खिलाडी बन जाते थे।

इसी प्रकार के खेल से वो कुछ ही समय बाद दिल्ली की रणजी टीम में भी शामिल हो गए थे रजनी ट्राफी में विराट कोहली को डेव्यू करना बहुत ही शानदार पल था और यही पल उनके जीवन का सबसे दर्दनाक पल भी बन गया क्योंकी जब तक विराट बल्लेबाजी करने के लिए आये तो तब तक दिन का खेल खत्म होने वाला था इसीलिए वह 14 रनबनाकर के Not Out बापिस आये।

जैसे ही विराट अगले दिन बल्लेबाजी करने के लिए जाने ही वाले थे तो उनको खबर मिली की उनके पिता “श्री प्रेम कोहली” जी की हार्ट अटैक से मौत हो गई इस खबर को सुनते ही विराट ग्राउंड पर एकदम से गिर पड़े और रोने लगे विराट इतने बिचलित हो गए थे की उन्हें संभाल पाना बहुत ही ज्यादा मुश्किल हो गया था। यह सोभाविक है की दुनिया का हर बेटा अपने पिता की मौत की खबर सुनकर के एकदम से टूट जायेगा वह एक ऐसे पिता थे जिन्होंने विराट को हर चीज के लिए सपोर्ट किया।

जैसे ही विराट को होश आता तो वह सोचते हैं की पहले मैं अपने घर जाऊंगा लेकिन कुछ देर बाद उन्हें एहसास हुआ की मेरे अलावा मेरे पिता भी यही चाहते थे की मैं एक सफल और महान क्रिकेटर बनूं इसीलिए विराट ने अपने घर ना जाने का बहुत ही बड़ा और कठोर फैसला लिया।

आप सभी ने अक्सर मैच एवं इंटरव्यूमें देखा होगा की विराट कोहली एक इमोशनल इंसान हैं तो आप समझ सकते हैं की मात्र 18 साल की उम्र में विराट ने अपने आप को मैदान पर कैसा संभाला होगा। Virat Kohli ने इस मैच में90 रनों की पारी खेली थी और यह 90 रनों की पारी विराट की सबसे यादगार पारियों में से एक है।

विराट हमेशा से ही अपने पापा के बहुत ज्यादा करीब रहे और उनके पिता चाहते थे की मेरा बेटा भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेले और अपने देश एवं परिवार का नाम रोशन करे. विराट को ये मलाल हमेशा सताता है की वो जो चाहते थे उन्होंने वो सब कुछ हासिल किया पर इस सफलता में उनके पापा उनके साथ नहीं रहे लेकिन विराट को यह विश्वाश है की मेरे पिता की आत्मा हमेशा मेरे साथ है।

Virat Kohli के पिता जी की मौत उनके लिए एक मोटिवेशन साबित हुए इसके बाद वो सिर्फ क्रिकेट पर ही अपना ध्यान रखने लगे विराट का प्रदर्शन उनकी उम्र के हिसाब से बहुत ज्यादा बेहतर था इसीलिए उन्हें भारत की अंडर19 टीम में चुन लिया गया और अंडर19 टीम में भी उनका प्रदर्शन बेहतर रहा इसीलिए उन्हें मार्च के महीने में सन 2008 में उनको भारतीय अंडर19 टीम का कप्तान बना दिया गया।

दोस्तों  टैलेंट के साथ साथ उनके अच्छे प्रदर्शन की वजह उनकी फिटनिस भी रही वो शुरू से ही क्रिकेट प्रैक्टिस के अलावा फिजिकल ट्रेनिंग भी करते आ रहे हैं जिनका हमेशा सिर्फ एक ही मकशद था की मैं एक अच्छा खिलाड़ी बनु और इसके अलावा वो अपनी फिटनिस पर शुरू से ही काम करते आए हैं।

विराट कोहली की डाइटिंग भी बहुत कठिन है उनकी डाइटिंग में स्वादिष्ट चीजों के लिए बिल्कुल भी जगह नहीं है वो ज्यादातर उबली हुई चीजों को ही खाते हैं. विराट का लगातार अच्छा प्रदर्शन करना उनकी कठोर मेहनत का ही फल है।

दोस्तो आप सभी की जानकारी के लिए बता दूँ की विराट कोहली ने अपनी पढ़ाई भी पूरी नहीं की है क्योंकी जब उनका भारतीय अंडर19 क्रिकेट टीम में सिलेक्शन हुआ था तो वो 12वीं क्लास में पढ़ते थे और उन्होंने क्रिकेट के प्रति अपनी पढ़ाई भी छोड़ दी।

Virat Kohli ने सन 2008 में अंडर19 टीम के कप्तान रहते हुए अपनी टीम को विश्व चैम्पियन बना दिया जो की विराट के क्रिकेटिंग करियर में उनकी पहली सबसे बड़ी टूर्नामेंट जीत थी।

सन 2008 विराट के लिए बहुत ही अच्छा साल रहा था ना सिर्फ उन्होंने अपनी टीम को चैम्पियन बनाया बल्कि उसी साल उनको भारतीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट टीम में श्रीलंका दौरे के लिए टीम में शामिल भी कर लिया और इसी वर्ष उनको IPL में RCB Team ने भी खरीद लिया था। Virat Kohli Biography

विराट कोहली के International Cricket की शुरुआत

विराट ने अपना पहला ODI मैच सहवाग और सचिन तेंदुलकर के चोटिल होने के बाद 18 अगस्त सन 2008 को खेला था और इस मैच में उन्होंने सिर्फ 12 रन बनाए थे विराट का जब अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सिलेक्शन हुआ था तब उन्होंने ज्यादा मैच भी नहीं खेले थे।

लेकिन Virat Kohli एक स्पेशल खिलाडी थे जिन्होंने ये कारनामा बहुत ही जल्दी कर दिखाया श्रीलंका दौरे के पहले तीन मैचों में कोहली का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा लेकिन सीरीज के चौथे मैच में उन्होंने ताबड़तोड़ अंदाज में 54 रनों की पारी खेलकर टीम में अपनी जगह की दावेदारी पेश की।

परन्तु दोस्तों भारतीय टीम की बल्लेबाजी फिक्स होने की वजह से वो टीम में अंदर बाहर होते रहे पर24 अगस्त 2009 को युवराज सिंह के चोटिल हो जाने से उन्हेंप्लेइंग 11में शामिल कर लिया गया और यह मैच भी श्रीलंका से था जिसमें श्रीलंका टीमने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत के सामने 317 रनोंका विशाल लक्ष्यरखा जो उस समय बहुत ही बड़ा स्कोर हुआ करता था।

श्रीलंका के 317 रनों के जबाब में जब भारत के बल्लेबाज बैटिंग करने आये तो महज23 रनों के स्कोरपर भारतीय टीम के दोनों ओपनर बल्लेबाज आउट हो चुके थे जिसके बाद बल्लेबाजी करने आए “Virat Kohli” कोहली ने इस मैच मे बहुत शानदार बैटिंग करते हुए 107 रनों की पहली शतकीय पारी खेली थी इस मैच में गौतम गंभीर और विराट कोहली के बीच 247 रनों की साझेदारीभी हुई थी जिसमेगौतम गंभीर 150 रन बनाकर अंत तक Not Out रहे और अपनी टीम को मैच भी जिताया था।

इस मैच में गौतम गंभीर को मैन ऑफ़ दा मैच चुना गया था लेकिन गंभीर ने इस Man Of The Match को विराट कोहली को देने की बात की क्योंकी इस मैच में विराट ने अपनी पहली अंतर्राष्ट्रीय शतकीय पारी खेली थी और इसके बाद कोहली का प्रदर्शन Team Indiaके लिए बेहतर होता गया।

सन 2011 में विराट ने अपना पहला ODI World Cup खेला और वर्ल्ड कप के पहले ही मैच में उन्होंने शतक लगाकर के एक वर्ल्ड रिकॉर्ड बना डाला भारतीय टीम ने साल 2011 का विश्व कप अपने नाम किया था जिसमे विराट कोहली इस टीम का प्रमुख हिस्सा थे।

2011 विश्व कप के बाद कोहली का प्रदर्शन दिन प्रति दिन बेहतर होता गया और साल 2012 में विराट को टीम का उप कप्तानबना दिया गया और 2014 में जबMS Dhoniने टेस्ट क्रिकेट से सन्यास ले लिया तो उसके उन्हें टेस्ट टीम का कप्तान बना दिया गया। इसके बाद सन 2017 में जब महेंद्र सिंह धोनी ने लिमिटिड ओवरों के कप्तानी छोड़ दी तो फिर विराट को क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट की कप्तानी दे दी गई।

एक दिवसीय मैच में सबसे तेज आठ हजार, नों हजार, दस हजार, ग्यारह हजार और बारह हजार रन बनाने का रिकॉर्ड कोहली के ही नाम है Virat Kohli ने अब तक टेस्ट क्रिकेट में 27 और ODI क्रिकेट में 43 शतक लगाए हैं। विराट से आगे अभी तक सिर्फ सचिन तेंदुलकर ही हैं जिन्होंने अपने पूरे इंटरनेशनल करियर में 100 शतक लगाने का रिकॉर्ड बनाया है।

विराट ने अपने क्रिकेट करियर के अलावा फैंस एवं अपने लिए लोगों का प्यार भी बहुत कमाया है कोहली के Instagram पर 160 मिलियन से भी ज्यादा फॉलोवर्स हैं जो किसी भी भारतीय से बहुत ज्यादा हैं।

विराट कोहली इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट डालने के एक करोड़ से भी ज्यादा रुपए लेते हैं कोहली के बल्ले पर MRF का स्टीकर लगा रहता है इस स्टीकर को लगाने के लिए Virat MRF Company से एक साल के दस करोड़ रुपए लेते हैं। यदि विराट की Net Worth के बारे में बात की जाये तो एक रिपोर्ट के मुताबिक लगभग उनकी नेटवर्थ 700 सो करोड़ से भी ज्यादा हैं।

विराट कोहली की लव स्टोरी

जैसा की आप सभी लोगों को ये पता ही है की कोहली की शादी वॉलीबुड एक्टर अनुष्का शर्मा के साथ हुई है अनुष्का और कोहली की मुलाकात एक पार्टी में हुई थी जहाँ एक्टर रणवीर सिंह ने इन दोनों का इंट्रोडक्शन करवाया था तो यहीं से इन दोनों की फ्रेंडशिप हो गई थी और विराट एवं अनुष्का ने एक साथ सेम्पु का ऐड भी किया था।

लेकिन तब भी लोगो को इनकी दोस्ती के बारे में पता नहीं चला था इसके बाद ये दोनों एक दूसरे से कई बार मिले और जब इन दोनों की फ्रेंडशिप गहरी होती गई उसी बीच कोहली क्रिकेट में आउट ऑफ फॉम हो गए मैच में कोहली का बल्ला ना चलने पर बहुत लोग इसका दोष अनुष्का शर्मा को देने लगे थे। Virat Kohli Biography

तो विराट को ये बात बिल्कुल भी पसंद नहीं आई और उन्होंने Twitter पर टवीट करते हुए लिखा की जो लोग ऐसा कह रहे हैं वो बिलकुल गलत है. इन सब के बीच उन दोनों की रिलेशन शिप अच्छी चल रही थी।

उसी बीच साल 2016 में उन दोनों के ब्रेकप की खबरे निकल कर आने लगी और सोशल मिडिया पर भी दोनों ने एक दूसरे को अन फॉलो कर दिया लेकिन साल 2017 में उन्होंने Instagram पर एक पोस्ट के दौरान बताया की हम दोनों साथ हैं और हमेशा एक दूसरे के साथ रहेंगे और उन दोनों ने यह भी तय कर लिया था की वो बहुत जल्द शादी भी करने वाले हैं।

जैसे ही लोगों को अनुष्का और विराट की शादी की खबर का पता चला तो उन्होंने इस जोड़ी को बहुत ज्यादा पसंद किया और इस जोड़ी को फैंस ने विरूष्का नाम दिया दिसंबर 2017 में विराट और अनुष्का दोनों शादी के पवित्र बंधनमें बंध गए थे अनुष्का और कोहली की शादी को लगभग 4 साल हो चुके हैं और इनकी एक छोटी सी प्यारी सी बेटी भी है जिनका नाम वामिका कोहली है।

विराट कोहली के करियर और लाइफ से जुडी इंट्रस्टिंग बातें

विराट ज्यादातर फॉम में ही रहते हैं इसीलिए कई बार ऐसा भी होता है जब उन्हें कई बार बड़े और महान खिलाड़ियों से कम्पेयर भी किया जाता है लेकिन कोहली इस पर बोलते हैं की लोग उनके डिवेट के लिये ही ऐसा करते हैं।

लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है हर बल्लेबाज का बैटिंग स्टाइल अलग अलग होता है पर इसका मतलब यह नहीं की बड़े और महान खिलाड़ियों से उनकी तुलना की जाये बल्कि महान खिलाड़ियों से हमे मोटिवेशन मिलता है। Virat Kohli Biography

विराट जब पहली बार अंडर 19 विश्व कप जीतकर आए थे तो उन्होंने पहली बार अपनी बॉडी पर टेटू बनवाया था और जब कोहली के कोच ने इस टेटू को देखा तो उनके कोच राजकुमार शर्मा ने उन्हें बहुत डाटा भी था इस कारण विराट अपने कंधे पर बने टेटू को हटवाने के लिए जाने वाले थे लेकिन टेटू बनबाने से उनका प्रदर्शन पहले से और भी बेहतर हो गया था फिर विराट टेटू मिटवाने से इंकार कर दिया।

विराट बताते हैं की पहले मैं अन्धविश्वाश पर बहुत ज्यादा यकीन करता था जैसे की अपने हांथो के गिलब्ज ना बदलना अगर कोई साझेदारी चल रही है तो अपनी जगह ना बदलना हांथ में ब्लैक कलर का बेल्ट पहनना आदि बहुत से प्रकार के अंधविश्वासों पर विश्वाश करते थे। पर 2015 में उन्होंने अपने ऊपर ध्यान दिया की मैं कुछ ज्यादा ही अंधविश्वासी हो गया हूँ तो फिर उन्होंने इसे छोड़ दिया।

विराट के फिजिओ बताते हैं की विराट दुनिया के बेस्ट क्रिकेटर ही नहीं बल्कि वो दुनिया के बेस्ट येथीलिएट बनना चाहते थे तभी तो वे इसी तरह से मेहनत भी करते हैं इसीलिए Virat हमेशा मैदान में बहुत ज्यादा फुर्तीले रहते हैं।

ODI Cricket में भारत की तरफ से सबसे तेज शतक विराट कोहली के ही नाम हैसाल 2013 में नागपुर स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 350 रनों का विशाल लक्ष्य दिया था जिसमें भारत की तरफ ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा और शिखर धवन ने बेहतरीन बल्लेबाजी की थी और जब धवन 95 रनों की पारी खेलकर आउट हो गये।

फिर इसके बाद बल्लेबाजी करने के लिए आये Virat Kohli जिन्होंने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की जमकर क्लास ली और मात्र 52 गेंदों में ही 100 रनों की ताबड़तोड़ शतकीय पारीखेल डाली और टीम इंडिया को जीत दिलाई और इससे पहले यह रिकॉर्ड ओपनर बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग के नाम था जिन्होंने 60 गेंदों में शतक लगाया था।

साल 2012-13में विराट ने एशिआ कप में पाकिस्तान के हिलाफ चेस करते हुए नॉट आउट 183 रनों की पारी खेली थी जो कोहली का ODI मैचों में सर्वाधिक स्कोर है और किसी भी भारतीय बल्लेबाज का पाकिस्तान क्रिकेट टीम के खिलाफ ये सबसे बड़ा स्कोर है।

जैसा की दोस्तों मैंने आप सभी को बताया है की Virat Kohli एक इमोशनल इंसान हैं कई बार ऐसा हुआ है की बड़े टूर्नामेंट के करीब पहुंचकर टीम वह टूर्नामेंट हार गई है जैसे 2017 की चैम्पियन ट्रॉफी का फाइनल मैच ओर 2019 में विश्व कप का सेमीफाइनल मुकाबला हार गए थे तो कोहली बहुत ज्यादा दुःखी हो गए थे।

Virat Kohli ने T20 Cricket में बिना बोल डाले ही विकिट लेने का रिकॉर्ड बनाया है दरअसल जब कोहली बॉलिंग करने आए तो उन्होंने पहली बोल वाइड डाल दी और धोनी ने विरोधी बल्लेबाज को स्टाम्पिंग आउट कर दिया जो की बिना गेंद डालें ही उनके नाम एक विकिट दर्ज हो चुका था।

वैसे तो विराट के अवॉर्ड की काफी लम्बी लिस्ट है लेकिन उन्हें कुछ ऐसे अवॉर्ड भी मिले जो उनके लिए बहुत ज्यादा खास रहे जैसे साल 2013 में Virat Kohli को राष्ट्रपति के द्वारा अर्जुन अवॉर्ड मिला इस अवॉर्ड को लेने वाले विराट सबसे कम उम्र के खिलाडी थे इससे पहले भी विराट जो साल 2012 में ICC के द्वारा Cricket of The Year का अवॉर्ड भी मिला और इस बार भी विराट इस अवॉर्ड को लेने सबसे कम उम्र के खिलाडी थे।

वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर विवयन रिचर्ड अपने समय के सबसे महान खिलाडी रहे उन्होंने विराट की तारीफ करते हुए कहा की विराट की बल्लेबाजी मुझे अपनी याद दिलाती है ये कॉम्पलिमेंट भी कोहली बड़ी अचीवमेंट्स में से एक रही।

निष्कर्ष (Virat Kohli Biography)

दोस्तों ये थी Virat Kohli Biography जो आज के समय में टीम इंडिया के सबसे दिग्गज और महान बल्लेबाज हैं जिन्होंने आज के दौर में भारतीय क्रिकेट टीम को इस बुलंदियों की ऊंचाई पर पंहुचा दिया जहा हम सब अपने देश और अपने खिलाड़ियों पर गर्व महसूस कर सकते हैं।

तो मैं उम्मीद करता हूँ की आपको इस लेख में Virat Kohli Biography की पूरी जानकारी मिल गई होगी और अगर आप विराट कोहली की बल्लेबाजी को पसंद करते हैं तो हमें कॉमेंट में जरूर बताए की आपको कोहली कौन सी पारी सबसे अच्छी लगी और साथ ही में इस लेख पर भी अपने विचारों को रखे। धन्यवाद जय हिन्द जय भारत Virat Kohli Biography

इसे भी पढ़ें –

महेन्द्र सिंह धोनी की जीवन कहानी के बारे में जाने 

रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर टीम (RCB) का मालिक कोन है

Related Articles

2 Comments

  1. धर्मेंद्र भाई आपने विराट कोहली के बारे में बहुत अच्छा Likha वास्तव में एक खिलाड़ी क्या-क्या परफॉर्मेंस करता है, इसकी जानकारी आपने पूरी दी, विराट कोहली बहुत ही अच्छा इंडियन प्लेयर है. उनकी जीवनी इंटरनेट पर देने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ,यह जानकारी योग्य हैं इस जानकारी को पढ़कर आपको इस कंटेंट से रिलेटेड कुछ मन में उठने वाले सवालों का जवाब जरूर मिल गया होगा। वैसे देखा जाए तो आजकल हर भाषा मैं समझने में सहूलियत होती है। जैसे कि “संस्कृत से हिन्दी ट्रांसलेशन” संस्कृत हिन्दी टू संस्कृत ट्रांसलेट कैसे करें आदि जानकारी आप पढ़ सकते हैं। लोगों को बहुत पसंद आएगी और विराट कोहली की जीवनी जरूर पड़ेंगे धन्यवाद,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button